महात्मा गांधी की 150वीं जयंती पर गिन्नी देवी मोदी महिला डिग्री कॉलेज में पोस्टर प्रतियोगिता आयोजित
September 27, 2019 • अनवर ख़ान

मोदीनगर (अनवर ख़ान)। महात्मा गांधी की 150वीं जयंती के अवसर पर गिन्नी देवी मोदी महिला स्नातकोत्तर कॉलेज के सभागार में कॉलेज के दृश्यकला विभाग द्वारा महात्मा गांधी विषय पर पोस्टर प्रतियोगिता तथा महात्मा गांधी और राष्ट्रीयता विषय पर काव्य पाठ का आयोजन किया गया। प्रतियोगिता की विजेता छात्राओं को कॉलेज की प्राचार्या द्वारा सम्मानित किया गया
        कार्यक्रम का शुभारंभ मुख्य अतिथि प्रमुख समाज सेविका मोना अग्रवाल, विशिष्ट अतिथि निकिता तथा कॉलेज की प्राचार्या डॉ मीनू अग्रवाल द्वारा मां सरस्वती की प्रतिमा के समक्ष दीप प्रज्वलित कर किया गया। मुख्य अतिथि मोना अग्रवाल ने महात्मा गांधी के जीवन चरित्र पर प्रकाश डालते हुए सभी से महात्मा गांधी के बताए सद्मार्ग पर चलने की अपील की। कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहीं प्राचार्या डॉ मीनू अग्रवाल ने कहा कि देश को आजाद कराने में महात्मा गांधी की एक महत्वपूर्ण भूमिका रही है। उन्होंने हिंसा के स्थान पर अहिंसा का मार्ग अपनाया और अहिंसात्मक आंदोलन के जरिए गोरों को यहां से जाने पर मजबूर कर दिया। उन्होंने छात्राओं द्वारा बनाए गए पोस्टर तथा काव्य पाठ की प्रशंसा करते हुए कहा कि यदि हम अपने भीतर की प्रतिभाओं का भली प्रकार विकास करें तो राष्ट्र का विकास स्वयंमेव ही हो जाता है। डॉक्टर निवेदिता मलिक ने अपने संबोधन में महात्मा गांधी के राजनीतिक तथा नैतिक चिंतन के विषय में बताते हुए छात्राओं से अपने जीवन में महात्मा गांधी की भांति सादगी, उच्च विचार, गहन अध्ययन और संपूर्ण अनुशासन को आत्मसात करने की बात कही। गांधी अध्ययन केंद्र की संयोजिका डॉ अरुणा शर्मा ने महात्मा गांधी जी के जीवन में उनकी माता तथा पत्नी की महत्ता पर प्रकाश डाला। मुख्य अतिथि द्वारा दृश्यकला विभाग की छात्राओं द्वारा कांच की बोतल पर की गई चित्रकारी को भी सराहा गया। पोस्टर प्रतियोगिता में प्रथम स्थान प्राप्त करने वाली छात्रा सादिया, द्वितीय स्थान प्राप्त करने वाली कृतिका एवं गरिमा शर्मा तथा तृतीय स्थान प्राप्त करने वाली ऋतुपर्णा को प्राचार्या डॉ मीनू अग्रवाल द्वारा पुरस्कृत कर सम्मानित किया गया। मंच संचालन डॉ ऋषिका पांडे ने किया।
      कार्यक्रम को सफल बनाने में डॉ कल्पना शर्मा, डॉ अर्चना शर्मा, डॉ सारिका पांडे, डॉक्टर सारिका गर्ग आदि का सराहनीय सहयोग रहा।